इंडिगो ने यात्रियों को दी बड़ी खुशखबरी, 1000 रुपये तक कम हुआ इन रूटों का किराया, जानिए

WhatsApp Channel (Follow Now) Join Now
WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

देश की सबसे बड़ी एयरलाइन इंडिगो ने हवाई यात्रियों को बहुत बड़ी राहत दी है। इंडिगो ने आज से अपने घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मार्गों पर फ्यूल चार्ज हटाने का ऐलान किया है।

एविएशन टर्बाइन फ्यूल (ATF) की कीमतों में उछाल के बाद एयरलाइन ने अक्टूबर 2023 में फ्यूल चार्ज लगाया था। एयरलाइन के प्रवक्ता ने कहा, “एटीएफ की कीमतों में हालिया कटौती के साथ, इंडिगो शुल्क वापस ले रही है।”

किराए में 1000 रुपये तक की कमी

एयरलाइन ने अक्टूबर में रुपये चार्ज करने की घोषणा की थी। इसके तहत 0-500 किमी के लिए 300 रुपये और 501-1000 किमी के लिए 400 रुपये चार्ज लगाया था।

वहीं, 1001- 1500 किमी के लिए यात्रियों को 550 रुपये, 1501- 2500 किमी के लिए 650 रुपये अतिरिक्त चुकाने पड़ते थे। इसके अलावा 2501- 3500 किलोमीटर की यात्रा के लिए के लिए 800 और 3501 किलोमीटर  और उससे अधिक के लिए 1000 रुपये चुकाने पड़ते थे। 

एयरलाइन द्वारा जारी एक बयान में इसके प्रवक्ता ने कहा, “भारत की अग्रणी एयरलाइन इंडिगो, 4 जनवरी, 2024 से अपने घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय मार्गों पर लागू ईंधन शुल्क को हटाने की घोषणा करते हुए खुश है।”

क्यों वापस लिया फ्यूल चार्ज

एयरलाइन ने आगे कहा, “चूंकि एटीएफ की कीमतें लगातार बदल रही हैं, हम कीमतों या बाजार की स्थितियों में किसी भी बदलाव को जवाब देने के लिए अपने किराए और उसके कंपोनेंट को एडजस्ट करना जारी रखेंगे।

इंडिगो अपने ग्राहकों को किफायती, ऑन-टाइम, विनम्र और हैशलेस यात्रा कराने के अपने वादे के प्रति प्रतिबद्ध है।” बता दें एटीएफ किसी एयरलाइन के ऑपरेशनल खर्च का एक बड़ा हिस्सा होता है।

ATF की कीमतों में गिरावट का असर

बता दें अक्टूबर में रेटिंग एजेंसी ICRA द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, FY2024 में, ATF की कीमतों में जून 2023 तक गिरावट देखी गई। उसके बाद, यह अक्टूबर 2023 तक से बढ़ी, हालांकि, नवंबर 2023 में यह लगभग 6% कम थी।

मोदी सरकार ने 1 जनवरी को लगातार तीसरी बार एटीएफ की कीमतों में कटौती की है। इस बार नई दिल्ली में इसमें लगभग 4 प्रतिशत की कटौती करके 101,993.17 रुपये प्रति किलोलीटर कर दिया गया। नवंबर और दिसंबर में एटीएफ की कीमतों में क्रमश: 6 फीसदी और 4.6 फीसदी की कटौती की गई थी। 

Leave a Comment

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें