घर खरीदें या दुकान, किराया और रिटर्न के हिसाब से कौन-सा निवेश है ज्यादा फायदेमंद, एक्सपर्ट से जानें

WhatsApp Channel (Follow Now) Join Now
WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

पिछले कुछ वर्षों में प्रॉपर्टी में निवेश तेजी से बढ़ा है क्योंकि इसमें मिलने वाला रिटर्न बेहद आकर्षक रहा. रियल एस्टेट में अब भी इन्वेस्टमेंट के कई बेहतरीन मौके हैं.

लेकिन, एक सवाल हर व्यक्ति के मन में होता है कि रेजिडेंशियल या कमर्शियल, आखिर किस प्रॉपर्टी में निवेश करना बेहतर है ताकि आने वाले वर्षों में किराये या रिसेल करने पर अच्छी रकम मिले.

रियल एस्टेट मार्केट एक्सपर्ट की मानें तो दोनों तरह की प्रॉपर्टी में इन्वेस्टमेंट करने के अपने फायदे और नुकसान हैं. इसलिए दोनों तरह की प्रॉपर्टी के नफा-नुकसान को दिमाग में रखकर ही निवेश के लिए आगे बढ़ना चाहिए. आइये आपको बताते हैं कैसे?

क्या कहते हैं मार्केट एक्सपर्ट

कमर्शियल और रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी में इन्वेस्टमेंट का फैसला निवेश की रणनीति और अन्य बातों पर निर्भर करता है. रियल एस्टेट रिसर्च एंड कंस्लटिंग फर्म, Homents के फाउंडर, प्रदीप मिश्रा ने कहा कि कमर्शियल और रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी, दोनों में मिलने वाला रिटर्न और रेंट सब्जेक्ट टू लोकेशन पर निर्भर करता है यानी आपकी प्रॉपर्टी किस जगह है उसी के आधार पर आपको किराये और उसे दोबारा बेचने पर कमाई होगी.

रेंटल यील्ड

प्रदीप मिश्रा ने कहा कि रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी में निवेश करने से पहले उस शहर की रेंटल यील्ड, जहां आप घर या फ्लैट खरीद रहे हैं, देख लेनी चाहिए. क्योंकि, हर शहर की रेंटल इनकम अलग-अलग होती है.

जैसे गुड़गांव में रेंटल यील्ड 2 फीसदी है, जबकि बेंगलुरु में यह 4 प्रतिशत है यानी अगर आप गुड़गांव में 1 करोड़ की प्रॉपर्टी खरीदते हैं तो हर साल सिर्फ 2 लाख रुपये किराये से कमा पाएंगे. वहीं, बेंगलुरु में यह कमाई 4 लाख रुपये होगी.

वहीं, कमर्शियल प्रॉपर्टी में भी तगड़ी रेंटल इनकम लोकेशन पर निर्भर करती है. अगर आपकी प्रॉपर्टी या दुकान अच्छी लोकेशन पर है तो उसका अच्छा किराया मिलेगा. लेकिन, रिमोट लोकेशन में होने पर रेंटल इनकम और रिसेल पर रिटर्न दोनों प्रभावित हो सकते हैं.चूंकि, कमर्शियल प्रॉपर्टी में रेंट अच्छा मिलता है इसलिए निवेश भी ज्यादा करना पड़ता है लेकिन गलत जगह पर पैसा लगाना बड़ा नुकसानदेह साबित हो सकता है.

लोकेशन और रेट पर अच्छी रिसर्च

रेजिडेंशियल हो या कमर्शियल, दोनों प्रॉपर्टी में निवेश करने से पहले कीमत और अन्य पहलुओं पर अच्छी रिसर्च करनी चाहिए. सबसे पहले आप यह टटोलने की कोशिश करें कि आप जिस लोकेशन पर प्रॉपर्टी चाहे मकान या दुकान खरीद रहे हैं वहां भविष्य में क्या संभावनाएं होंगी.

अगर आपकी प्रॉपर्टी के आसपास स्कूल, कॉलेज, अस्पताल और बड़ी कंपनियों के दफ्तर रहते हैं तो इस घर और दुकान की मांग यहां ज्यादा रहेगी. अगर ऑफिसेज पास नहीं हो तो, वहां से पब्लिक ट्रांसपोर्ट की सुविधा कितनी अच्छी है यह भी मायने रखता है.

प्रॉपर्टी की कंस्ट्रक्शन क्वालिटी

अगर आप भविष्य में प्रॉपर्टी, खासकर आवासीय संपत्ति से बेहतर रिटर्न चाहते हैं तो इसे खरीदने से पहले बिल्डर की साख और प्रोजेक्ट की क्वालिटी पर जरूर गौर करें.

क्योंकि, वक्त बीतने पर अगर घर या फ्लैट के कंस्ट्रक्शन में किसी तरह की दिक्कत आती है तो प्रॉपर्टी की वैल्यू पर असर पड़ता है. इसके अलावा, खराब कंस्ट्रक्शन के कारण मेंटनेंस का खर्च भी बढ़ जाता है.

Leave a Comment

WhatsApp चैनल ज्वाइन करें